March 4, 2024

Mirrormedia

Jharkhand no.1 hindi news provider

तंबाकू उपायोग के खिलाफ चलेगा सघन जांच अभियान, शैक्षणिक संस्थानों के 100 गज के दायरे से तंबाकू उत्पाद की दुकाने हटाने का निर्देश

1 min read

जमशेदपुर : उपायुक्त मंजूनाथ भजन्त्री की अध्यक्षता में समाहरणालय सभागार में तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत जिला तंबाकू नियंत्रण व निगरानी समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में तंबाकू नियंत्रण के प्रभावी उपायों पर चर्चा की गई तथा विशेषकर पुलिस, स्वास्थ्य, शिक्षा, सूचना जनसंपर्क, पंचायती राज, परिवहन व नगर निगम के पदाधिकारियों को इस कानून के तहत अपने-अपने दायित्वों का निर्वहन करने का निर्देश दिया गया। त्रिस्तरीय छापेमार दस्ते को कोटपा 2003 के अनुपालन के लिए संभावित उल्लंघनकर्ताओं के विरूद्ध औचक निरीक्षण करने का निर्देश दिया गया। जिले के सभी शैक्षणिक संस्थानों में चेतावनी व 100 गज के दायरे में तंबाकू से बने पदार्थों की बिक्री पर रोक सुनिश्चित किए जाने का निदेश दिया गया। बैठक में कोटपा 2003 के विभिन्न प्रावधानों को सख्ती से लागू करने के लिए महत्वपूर्ण निर्णय भी लिये गये।

जिला उपायुक्त ने अपने संबोधन में कहा कि तम्बाकू के सेवन से न सिर्फ सेहत पर इसका दुष्प्रभाव पड़ता है। साथ ही आर्थिक नुकसान भी होता है। तम्बाकू सेवन न करके जिंदगी के साथ साथ आर्थिक नुकसान को भी बचाया जा सकता है। उपायुक्त ने तम्बाकू नियंत्रण हेतु छापामार दस्ते को निर्देश दिया कि स्पॉट फाईन करें, सभी अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से अपने अपने कार्यालयों में तम्बाकू मुक्त क्षेत्र का बोर्ड लगाने का निर्देश दिया गया।

जिला उपायुक्त ने कहा कि तंबाकू का सेवन नहीं करने के लिए आमजनों को प्रेरित व जागरूक करें। तभी तंबाकू के सेवन पर नियंत्रण करने में सफलता मिलेगी। उन्होंने बताया कि तंबाकू सेवन करना एक खतरनाक आदत है। जहां छोटे-छोटे बच्चे हैं, वहां तो स्थिति और भी अधिक नाजुक बन जाती है। तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम को अभियान के रूप में चलाए जाने के काफी अच्छे परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। सभी स्तर पर तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम को सफल बनाने में आम जनों से भी सहयोग की अपेक्षा है।

तम्बाकू नियंत्रण के लिए राज्य सरकार की तकनीकी सहयोगी संस्था सोशियो इकोनॉमिक एण्ड एजुकेशनल डेवलपमेंट सोसाईटी (सीड्स) के कार्यक्रम समन्वयक रिम्पल झा ने तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत कोटपा-2003 की विभिन्न धाराओ के बारे में विस्तार से बताया। जिला शिक्षा पदाधिकारी को नियमित रूप से जिले में स्थित शैक्षणिक संस्थानों का निरीक्षण करने एवं संस्थानों के 100 गज की दूरी तक किसी भी प्रकार के तंबाकू उत्पादों की बिक्री ना होने देना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। कार्यशाला में जिले के सभी प्रशासनिक पदाधिकारियों के अलावे पुलिस के अधिकारी भी उपस्थित थे। जिन्हें तम्बाकू सेवन नहीं करने का शपथ भी दिलवाया गया।

Share this news with your family and friends...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.