Homeदेशरचनात्मक अभिव्यक्ति के नाम पर ओटीटी प्लेटफॉमों को भारतीय संस्कृति और समाज...

रचनात्मक अभिव्यक्ति के नाम पर ओटीटी प्लेटफॉमों को भारतीय संस्कृति और समाज को अपमानित करने की अनुमति नहीं: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर

मिरर मीडिया : सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने मंगलवार को ओवर द टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉमों के शीर्ष अधिकारीयों के साथ कंटेंट रेगुलेशन को लेकर हुई उच्चस्तरीय बैठक में कहा कि रचनात्मक अभिव्यक्ति के नाम पर ओटीटी प्लेटफॉमों को भारतीय संस्कृति और समाज को अपमानित करने की अनुमति नही दी जाएगी। बैठक के दौरान मंत्री ने ओटीटी कंटेंट के खिलाफ दावों के समाधान में तेज़ी लाने के लिए उद्योग विशेषज्ञों और न्यायिक सदस्यों को शामिल करते हुए अर्ध –न्यायिक निकाय की स्थापना का प्रस्ताव रखा।
बता दें कि केंद्रीय मंत्री ने कंटेंट में बढ़ती अश्लीलता , वैचारिक पूर्वाग्रह और ओटीटी कंटेंट में भारतीय धर्मों और परंपराओं के नकारात्मक चित्रण को लेकर चिंता जताई ।उन्होंने ओटीटी प्लेटफॉमों से यह भी कहां की वे अपने प्लेटफॉर्म का का इस्तेमाल दुष्प्रचार और विचारधारा आधारित पक्षपात के रूप में ना करें ।उन्होंने प्रतिनिधियों से इन चिंताओं को दूर करने के लिए पखवाड़े के भीतर सुझाव देने को कहा है ।उन्होंने कहा भारत विविधताओं से भरा देश है, ओटीटी प्लेटफार्म को सभी आयु वर्ग के लोगों के लिए अच्छा कंटेंट उपलब्ध कराना चाहिए | हम भारत की रचनात्मक आर्थिकी को आगे बढ़ा रहे हैं, ऐसे में इन प्लेटफॉमों को देश की संस्कृति विविधता के प्रति संवेदनशील होना चाहिए।

Most Popular