June 28, 2022

Mirrormedia

Jharkhand no.1 hindi news provider

पिता सुबह में बांटते हैं अखबार, दिन में करते है बढ़ई का काम, बेटा बना झारखंड में मैट्रिक का स्टेट टॉपर

1 min read

जमशेदपुर। शहर के बिष्टूपुर स्थित श्री रामकृष्ण मिशन स्कूल के छात्र अभिजीत शर्मा ने मैट्रिक में स्टेट टॉपर बनने का गौरव हासिल किया है। अभिजीत के पिता अखिलेश शर्मा अखबार बांटते हैं और उसके बाद बढ़ई का काम घर-घर जाकर करते हैं। बड़ी मुश्किल से उनका परिवार चलता है। मां तिलोका शर्मा गृहिणी हैं। अभिजीत को कुल 500 नंबर में 490 अंक प्राप्त हुए हैं। हिंदी में 100, गणित में 100, साइंस में 99, सोशल साइंस में 97, इंग्लिश में 100 में 94 अंक उसने हासिल किए हैं। अभिजीत ने कहा कि वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहता है। बाल्डविन में 11वीं में नामांकन लिया है। कक्षा नौवीं तक अभिजीत ने कोई ट्यूशन नहीं लिया। मैट्रिक की परीक्षा को लेकर कुछ महीने पहले ट्यूशन लिया था। शास्त्रीनगर के ब्लॉक नंबर चार में एक छोटे से घर में पूरा परिवार भाड़े पर रहता है। घर का भाड़ा 3500 रुपये हर माह अभिजीत के पिता देते हैं। अभिजीत के पिता अखबार बांटकर व बढ़ई का काम कर हर माह 10-12 हजार रुपये कमा लेते हैं। इसी से उनका पूरा परिवार चलता है। मैट्रिक स्टेट टॉपर छात्र अभिजीत शर्मा की संघर्ष भरी कहानी सुनकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे। कदमा भाटिया पार्क स्थित पेट्रोल पंप के पीछे रहने वाले अभिजीत शर्मा माता-पिता का इकलौता पुत्र है। पिता अखिलेश शर्मा बढ़ई हैं, जब उनका काम मंदा पड़ा तो अब अखबार की हॉकरी करने लगे। वे अपने बेटे को टाटा स्टील की अप्रेंटिस में डालकर कंपनी का कर्मचारी बनाना चाहते थे। लेकिन, बेटा सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहता है, इसलिए वर्तमान में उसका दाखिला बाल्डविन स्कूल में साइंस में करा दिया है। अखिलेश ने बताया कि शुरू से ही उनका बेटा पढ़ाई में लीन रहा। उन्हें लगता था कि उनका बेटा कभी न कभी कुछ करेगा, इसलिए उसका दाखिला रामकृष्ण मिशन स्कूल में कराया। उसकी शिक्षा को लेकर वे हमेशा चिंतित रहते थे। उनके लिए कोरोना काल सबसे विषम परिस्थितियों वाला रहा। परिवार के पास खाने को भोजन तक नहीं था। जो लोग दान देते थे, उनके यहां जाकर राशन लाते थे और तब घर का चूल्हा जलता था। लेकिन, फिर भी बेटे की पढ़ाई पर कभी आंच नहीं आने दी। उस वक्त मोबाइल की आवश्यकता थी, क्योंकि पढ़ाई ऑनलाइन हो रही थी। लिहाजा, उन्होंने कर्ज लेकर एक सेकेंड हैंड मोबाइल खरीदा और उसका कर्ज अब तक चूकता कर रहे हैं। बेटे को कभी हारने या निराश होने नहीं दिया। क्योंकि, मालूम था कि उनका बेटा उनका नाम रोशन करेगा और आज जब लोगों के फोन आने लगे तो गर्व का अहसास हुआ। बेटे ने राज्य में टॉप किया है। इस खुशी को बयान नहीं किया जा सकता। मां तिलोका शर्मा कहती हैं कि बेटा तो उनका दोस्त है और वह दोस्त की तरह हमेशा अपनी बातें शेयर करता है। उसकी बातों से लगता था कि शिक्षा ही उसके जीवन का आधार है और उसे सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना है। इसी दिशा में उसने अपनी पढ़ाई जारी रखी और आज उसने सारी खुशी दे दी। बिहार के औरंगाबाद के रहने वाले हैं अखिलेश शर्मा मूल रूप से बिहार के औरंगाबाद निवासी अखिलेश शर्मा के अनुसार, घर-घर घूमकर बढ़ई का काम जब कम मिलने लगा तो उन्होंने हॉकर बनकर पेपर बांटना शुरू किया और आज भी वही कर रहे हैं। इससे उनका घर चल रहा है और बच्चे की पढ़ाई भी। वे कदमा इलाके में पेपर भी बांटते हैं। हर परिस्थिति को उन्होंने अपने बेटे के लिए जिया है और वे चाहते हैं कि बेटा जैसे आज नाम रोशन कर रहा है कल भी वह इसी तरह बुलंदियों पर चमके। इसी उद्देश्य के साथ अपने ग्राहकों से कर्ज मांग कर उसका दाखिला अंग्रेजी माध्यम स्कूल में कराया। एडमिशन के लिए लोगों ने कर्ज दिया। अखिलेश शर्मा के अनुसार वे मैट्रिक फेल हैं। उनकी पत्नी ने कक्षा तीन तक की पढ़ाई की है, लेकिन वे बेटे को शिक्षा जगत के शीर्ष पर देखना चाहते हैं। अखिलेश ने बताया कि आज उन्हें बहुत इच्छा थी कि वे अपने बेटे की सेल्फी लेकर सभी मीडिया वालों को भेजते, लेकिन आज सुबह ही उनका मोबाइल फोन गिरकर टूट गया। अभी उस मोबाइल का कर्ज भी अदा नहीं हुआ है, लेकिन खुशी की बात है कि सुबह का गम शाम में बेटे की उन्नति और उसके विजय पर भारी पड़ गया।

Share this news with your family and friends...

Leave a Reply

Your email address will not be published.