October 2, 2022

Mirrormedia

Jharkhand no.1 hindi news provider

इस वर्ष त्योहारों के सीजन में रेलवे ने धनबाद के साथ किया सौतेला व्यवहार : नहीं चलेगी एक भी स्पेशल ट्रेन

1 min read

मिरर मीडिया : कोरोना काल के दो वर्ष बीतने के बाद इस वर्ष लोग बिना कोई पाबंदी और प्रतिबन्ध के खुलकर त्योहारों का आंनद लेने के लिए उत्साहित और तैयार हैं पर इस बार रेलवे ने उत्साह को थोड़ा फीका कर दिया है दरअसल इस त्यौहार के सीजन पर धनबाद से आने जाने वाले यात्री ट्रेन में धक्का-मुक्की खाने पर मजबूर होंगे। आपको बता दें कि इस बार रेलवे ने धनबाद के यात्रियों को बड़ा झटका देते हुए इस वर्ष त्योहार के मौके पर धनबाद से कोई भी स्पेशल ट्रेन नहीं चलेंगी। जिस कारण लोगों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

एलएपी एक्सप्रेस में नए एलएचबी कोच लगाते ही पुराने सभी कोचों को समस्तीपुर रेल मंडल को दे दिया गया है। जिस वजह से धनबाद में त्यौहार के मौके पर चलने वाली स्पेशल ट्रेन की चलने की संभावना खत्म हो गई है। त्योहारी सीजन में धनबाद के यात्रीओं को भीड़ में धक्का खाने पर मजबूर रहेंगे और यहां के रैक से समस्तीपुर से स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी।

अधिकारियों ने बताया कि एलएपी के 6 रैक थे, जिनमें से कुछ दूसरी ट्रेन में जोड़ने के लिए रखे गए थे लेकिन सभी कोच को समस्तीपुर भेज दिया गया है। जिस कारण अगर धनबाद से स्पेशल ट्रेन चलाने की योजना बनती भी है तो रैक के लिए झोली फैलानी होगी।

गोड्डा तक जाएगी रांची-दुमका इंटरसिटी

11 सितंबर से रांची से दुमका जाने वाली ट्रेन गोंडा तक चलेगी। वापसी में गोड्डा से रांची के लिए 12 सितंबर से चलाई जाएगी। साथ ही इस ट्रेन के टाइम टेबल में भी आंशिक फेरबदल किए गए हैं। रांची से दुमका अब सुबह 7बज कर 25 मिनट के बजाय 20 मिनट पहले पहुंचाएगी। वही वापसी में शाम साढ़े 6 बजे पर दुमका पहुंचेंगी। हालांकि दुमका से खुलने का समय में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 

रांची दुमका इंटरसिटी के गोड्डा तक विस्तार से धनबाद और बोकारो के यात्रियों को भी गोड्डा और दुमका तक आने जाने के लिए अब दो ट्रेनें मिल गई हैं। नई ट्रेन चलते ही प्रतिदिन गोड्डा पहुंचने के लिए ट्रेन मिल सकेगी। गोड्डा और आसपास के यात्रियों को भी धनबाद बोकारो रांची और सीमावर्ती क्षेत्र के लिए हर दिन ट्रेन मिलेगी।

Share this news with your family and friends...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed